by - Praveen Bhatt

15 Nov 2019


उत्तराखंड

डॉ. विजय बहुगुणा की रिर्पोट। राजेंद्र सिंह रावत राजकीय महाविद्यालय बड़कोट में दिनांक 15 नवंबर 2019 को एक दिवसीय संगोष्ठी का आयोजन किया गया। उच्च शिक्षा में गुणवत्ता उन्नयन एवं नवाचार विषय पर आयोजित गोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि उच्च शिक्षा सलाहकार प्रोफेसर के. डी. पुरोहित एवं विशिष्ट अतिथि के रूप में जिला पंचायत सदस्य श्री आनंद सिंह राणा मौजूद रहे। बतौर वक्ता अंग्रेजी विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ अंजू भट्ट नए छात्र-छात्राओं के व्यक्तित्व विकास में अभिभावक शिक्षक एवं समाज की भूमिका पर विस्तारपूर्वक अपनी बातचीत रखें उन्होंने कहा कि 21 वीं शताब्दी के पूर्वार्ध में छात्र छात्राओं को अपने समाज के भीतर घट रही घटनाओं के प्रति संवेदनशील होना होगा हर एक छात्र की पहली पाठशाला उसका स्वयं का परिवार होता है जहां उसकी परवरिश होती है 6 छात्रों के व्यक्तित्व विकास में समाज परिवार शिक्षक तीनों की ही भूमिका महत्वपूर्ण हो जाती है उन्होंने रॉबर्ट फ्रॉस्ट की कविता का उल्लेख करते हुए कहा कि हमें अपने सपनों को पाने के लिए हमेशा तत्पर रहना होगा दूसरे वक्ता रसायन विज्ञान की विभागाध्यक्ष डॉ सीमा बेनीवाल ने 21 वी शताब्दी के इस दौर में डिजिटल इंडिया पर बातचीत रखते हुए कहा कि हम सभी को अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में सूचना एवं तकनीकी के हर सुविधा का लाभ लेना होगा आज जरूरत इस बात की है कि छात्र-छात्राएं डिजिटल लाइब्रेरी का इस्तेमाल करें जहां लाखों की संख्या में स्तरीय पुस्तकों का जमावड़ा लगा हुआ है। बतौर वक्ता भौतिक विज्ञान के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर विमल प्रकाश बहुगुणा ने राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद की प्रासंगिकता एवं उपादेयता पर विस्तार पूर्वक चर्चा की उन्होंने बताया कि अब हर एक महाविद्यालय को उक्त परिषद की मापदंडों पर खरा उतरना होगा उसी स्थिति में विश्वविद्यालय अनुदान आयोग वित्तीय मदद कर पाएगा महाविद्यालय के छात्रसंघ अध्यक्ष ऋषभ कुमार ने दुष्यंत कुमार  दुष्यंत कुमार की पंक्तियों से अपना उद्बोधन शुरू किया और कहा कि प्रत्येक छात्र-छात्रा की यह नैतिक जवाबदेही हो जाती है कि वह अपने कर्तव्यों के प्रति सचेत रहें महाविद्यालय में उनकी उपस्थिति निरंतर रहे महाविद्यालय के अंदर पुस्तकालय एवं वाचनालय का वे लाभ उठाएं तभी जाकर उनके व्यक्तित्व का विकास संभव है उन्होंने माननीय अतिथियों से गुजारिश की कि महाविद्यालय के अंदर ऑडिटोरियम की व्यवस्था की जाए ताकि समय-समय पर सेमिनार कार्यशाला सिंपोजियम आदि कार्यक्रमों का संचालन हो सके कार्यक्रम के संचालक राजनीति विज्ञान विभाग के अध्यक्ष डॉ डीएस मेहरा ने  उच्च शिक्षा में गुणवत्ता उन्नयन एवं नवाचार पर बातचीत करते हुए कहा कि प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ धन सिंह रावत जी की परिकल्पना है कि महाविद्यालयों के अंदर सकारात्मक माहौल के सर्जन के लिए अभिभावकों छात्र-छात्राओं समाज के वरिष्ठ नागरिकों एवं अध्यापकों के बीच संवाद की प्रक्रिया निरंतर जारी रहे इसी मकसद को पाने के लिए आज इस कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है इस मौके पर अभिभावक शिक्षक संघ के अध्यक्ष एवं पूर्व छात्र परिषद अध्यक्ष श्री सुनील थपलियाल ने भी छात्र छात्राओं से आवाहन किया कि वे गंभीरता से अध्ययन करें समय का सदुपयोग करें और कक्षाओं में निरंतर उपस्थित रहे बतौर मुख्य अतिथि महाविद्यालय में पधारे उच्च शिक्षा सलाहकार प्रोफेसर केडी पुरोहित ने महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं की प्रशंसा करते हुए कहा कि सभी छात्र छात्रा अपने गणवेश में पधारे हैं इसके लिए मैं उनको साधुवाद देता हूं उन्होंने विश्वविद्यालय अनुदान आयोग एवं उच्च शिक्षा निदेशालय के दिशा निर्देशों का सख्ती से पालन करने को कहा और यह भी सुनिश्चित करने को कहा कि छात्र-छात्राएं कक्षाओं में अपनी 75 फ़ीसदी उपस्थिति सुनिश्चित करें जिला पंचायत सदस्य एवं कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि श्री आनंद सिंह राणा ने छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि वह महाविद्यालय के सर्वांगीण विकास में सहभागी बनेंगे जब कभी भी महाविद्यालय उनकी ओर आशा भरी निगाहों से देखेगा तो वह हमेशा एक सकारात्मक पहल अपनी ओर से करेंगे महाविद्यालय के प्राचार्य एवं कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे हैं डॉ एके तिवारी जी ने कहा कि महाविद्यालय अपने लक्ष्यों की ओर तेजी से बढ़ रहा है उन्होंने वर्तमान में कार्यरत प्राध्यापकों का जिक्र करते हुए कहा कि हमारे महाविद्यालय में कुछ नए विषयों का सृजन हुआ है जिसमें कुछ विषयों में पद रिक्त हैं जिनकी पूर्ति निकट भविष्य में जल्द से जल्द कर ली जाएगी उन्होंने आमंत्रित अतिथियों का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि हम महाविद्यालय के विकास में दिन रात प्रयास कर रहे हैं कि कैसे यह महाविद्यालय उत्तराखंड के बेहतरीन महाविद्यालयों की श्रेणी में इसका नाम शुमार हो उन्होंने उच्च शिक्षा सलाहकार प्रोफेसर केडी पुरोहित जी से आग्रह किया कि वह भूगोल और समाजशास्त्र विषय में प्राध्यापकों की तैनाती करने में तत्परता दिखाएं अंत में प्रोफेसर युवराज शर्मा ने सभी सम्मानित अतिथियों का आभार व्यक्त किया एवं उनके प्रति कृतज्ञता ज्ञापित करते हुए कहा कि हमें पूरी उम्मीद है जब कभी भी महाविद्यालय में इस तरीके के आयोजन होंगे तो आप सभी लोगों की उपस्थिति से हम लाभान्वित होंगे अंत में सदैव प्राचार्य जी ने सभी अतिथियों एवं विशिष्ट अतिथियों को स्मृति चिन्ह भेंट कर उनको सम्मानित किया कार्यक्रम का अंत राष्ट्रगान के साथ हुआ







LEAVE A REPLY

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Captcha Code :

RECENT POSTS